उद्‌गम-सफे  |  भाशा विकल्प  |  डाऊनलोड  |  FAQ  |  Help Manual  |  साढ़े कन्नै रावता करो (नमां टोल फ्री नंबर)  |  Site Map  
 
 
Dogri CD Cover
 
भारती भाशाएं लेई टैक्नालोजी दे विकास
 
भारती भाशाएं लेई टैक्नालोजी दे विकास कन्नै लोकें च आपूं चें केईं तरीकें कन्नै रावता होंदा ऐ, जिंदे च द्रिश्श ते सनोचमीं पद्धति प्रमुख पद्धति ऐ. इस समें, माह्‌नू-मशीन रावते दा प्रमुख माध्यम माह्‌नू दी सुविधा दे बजाए मशीन दी सुविधा पर मता निर्भर ऐ. माउस ते कुंजी-बोर्ड प्रमुख इनपुट युक्तियां न ते विजुअल प्रदर्शन युनिट मुक्ख आउटपुट युक्ति ऐ. नेह् इंटरफेस दा प्रयोग करने लेई विशेश कौशल ते मानसिक अभिवृत्ति दी लोड़ होंदी ऐ, जिस कन्नै केईं लोक संपन्न नेईं होंदे न.आपसी रावते दी इस मशीन-केंदरत अवस्था गी माह्‌नू -केंदरत इंटरफेस च बदलना जरूरी ऐ, जिस कन्नै कंप्यूटरें दी शक्ति दे लाह् सभनें गी पुज्जी सकन.जद के जानकारी गी अपने सामने दिक्खने कन्नै जेह्‌ड़ी सूचना प्राप्त होंदी ऐ, ओह् मती प्रभावी होंदी ऐ, इसलेई सूचना भेजने लेई वाणी सभनें शा सौखा साधन ऐ. कंप्यूटर ते दूरसंचार प्रणालियें दे संयुक्तिकरण दे कारण शाब्दक संव्यवहार अज्ज जैदा शक्तिशाली होई गेदा ऐ, जिंदी मदद कन्नै लोक कुसै दूर थाह्‌रै पर स्थित कंप्यूटरें कन्नै जानकारी हासल करी सकदे न. शाब्दक संव्यवहार च प्राकृत भाशा शामल ऐ, ते इसदे कारण सूचना टैक्नालोजी दे खेतर च भाशा- विज्ञान दा म्हत्तव बधी गेदा ऐ.इसलेई, कंप्यूटर उप्पर माह्‌नू -केंदरत इंटरफेस अज्जै दी जरूरत ऐ.मनुक्खै गी इक नोखी विशेशता कन्नै संपन्न कीता गेदा ऐ - भाशा – जिसदी मदद कन्नै ओह् सूचना, चिंतन ते विचारें दा आपूं चें अदान-प्रदान बिजन कुसै मेह्‌नत दे गै करी लैंदा ऐ. प्रकृत भाशा दे प्रयोग कन्नै माह्‌नू मशीन रावते च माह्‌नू भाशा टैक्नालोजी दे केईं पैह्‌लू शामल न : वाणी समन्पीडन, पन्छान ते वाणी ते लिपि दी समझ, मशीनी अनुवाद, पाठ सिरजन, वाणी ते घसीटियै लिखी जाने आह्‌ली लिपि दा संश्लेशन. मशीना कन्नै रावता स्थापत करने लेई भाशा दे दोऐ रूप, मौखिक ते लिखत ,उपयोगी न.
कंप्यूटर पर भारती भाशाएं पर कम्म करने दी सुविधा पिछले दऊं द्हाकें थमां उपलब्ध कराई जा करदी ऐ, जिंदे च बक्ख-बक्ख प्लेटफार्में ते आप्रेटिंग प्रणालियें पर डेटा प्रासैस्सिंग, वर्ड प्रासैस्सिंग, डैस्क टाप प्रकाशन आदि सनें बक्ख-बक्ख चाल्ली दे कम्म शामल न.

सूचना टैक्नालोजी विभाग ने कुसै चाल्ली दी भाशाई अड़चन बिजन माह्‌नू -मशीन रावते दी सुविधा प्रदान करने दे उद्देश्श कन्नै सूचना प्रासैस्सिंग साधनें दा विकास करने; बहुभाशी ज्ञान स्रोतें दा निर्माण ते पुज्ज करने; ते नमें बरतूनी उत्पादनें ते सेवाएं दे विकास लेई उंदा एकीकरण करने दे उद्देश्श कन्नै टीडीआईएल (भारती भाशाएं लेई टैक्नालोजी विकास) कार्यक्रम शुरू कीता ऐ.कार्पोरा ते शब्दकोश जनेहे भाशा-विज्ञान प्रासैस्सिंग दे विकास; ते फांट, इबारत संपादक, शब्द-जोड़ जाच-कर्ता, ओसीआर ते इबारत-थमां-वाणी जनेहे मूलभूत सूचना प्रासैस्सिंग साधनें दे विकास लेई परियोजनाएं गी धनराशि उपलब्ध कराई गेई.मानक बी त्यार कीते गे न.

भारती भाशा टैक्नालोजी उत्पादनें ते सेवाएं दे विकास लेई देसै दे बक्ख-बक्ख थाह्‌रें पर निजी, सार्वजनक ते सरकारी स्तर पर केईं प्रयास कीते गेदे न. स्रोत केंदरें ते कायलनेट केंदरें द्वारा विकसत भाशा टैक्नालोजियें ते साधनें गी तेज़ी कन्नै प्रयोग करने दी लोड़ ऐ, जिस कन्नै उंदी उपयोगिता दे बारै प्रतिक्रिया थ्होई सकै ते उनें गी उत्पादनें लेई उपलब्ध कराया जाई सकै. अनुसंधान ते विकास दा असर पूरे समाज पर होना चाहिदा.इसदा मतलब एह् ऐ जे अनुसंधान दे प्रयासें गी लबाटरियें तगर गै सीमत नेईं रक्खियै इंदा नियोजन तेज़ी कन्नै कीता जाना चाहिदा , जिंदे पर खीर बरतूनियें दी पुश्टी ते उंदे तजरबें दी जानकारी हासल होई सकग ते उंदे च मता सुधार कीता जाई सकग. अगले इक बरे च खल् दित्ते दे उत्पादन ते समाधान सार्वजनक प्रभाव-खेतर च उपलब्ध कराने दी पूरी त्यारी करी लेई दी ऐ:
  सभनें भारती भाशाएं च मुख्त फांट (टीटीएफ ते ओटीएफ) ते वर्ड प्रासैस्सर. पैह्‌ले चरण दे रूप च, सार्वजनक प्रभाव-खेतर च मुख्त उपलब्ध कराने दे उद्देश्श कन्नै शास्त्रीय भाशा तमिल लेई लोकप्रिय ट्रू टाइप फांटें (टीटीएफ) दी चोन प्रकाशन उद्योग कन्नै विचार-विमर्श करियै कीता गेदा ऐ. विंडोज़ 95/ विंडोज़ 98/ विंडोज़ एनटी प्लेटफार्म आह्‌ली प्रणालियें पर टीटीएफ फांटें दा प्रयोग व्यापक रूप कन्नै होआ करदा ऐ. विंडोज़ 2000/एक्सपी/2003 ते लीनक्स प्लेटफार्में दे ओटीएफ (ओपन टाइप फांट) जारी कीते जा करदे न. एह् अपनी चाल्ली दा पैह्‌ला प्रयास ऐ ते शब्द प्रासैस्सर (मजूदा ते नमें) इनें फांटें दा इस्तेमाल करी सकङन. इसदे फलसरूप बरतूनियें गी डेटा प्रविश्टी लेई गुप्त-लेखन, ध्वन्यात्मक ते टाइपराइटर कुंजी-बोर्ड आह्‌ले होर मते फांट उपलब्ध होङन.
   
  सूचना निश्कर्श, बापस बसूली ते अंकीयकरण लेई सभनें भारती भाशाएं च प्रकाशक अक्खर पन्छान (ओसीआर). ओसीआर स्कैन कीते गेदे प्रतिरूपें (छपत सफें गी स्कैनर द्वारा स्कैन कीता जाई सकदा ऐ) गी संपादन जोग इबारत च रूपांतरत करदा ऐ तां जे उसदा प्रयोग बाकी अनुप्रयोगें लेई कीता जाई सकै ते उसदे मताबक संशोधत कीता जाई सकै.इसदा प्रमुख लाह् प्रकाशन उद्योग गी होंदा ऐ, जेह्‌ड़ा दोबारा छपाई ते नमें प्रकाशन त्यार करने लेई इसदा प्रयोग करी सकदा ऐ.
   
  रेलवे सूचना, सेह्‌ता दी दिक्ख-भाल, करसानी , आपदा प्रबंध ते सार्वजनक उपयोगिता दियें बाकी सेवाएं जनेहियें प्रणालियें लेई वाणी इंटरफेस.इस कन्नै जन साधारण गी उन्नत टैक्नालोजियें दा लाह् लैने च मदद थ्होग . प्रणाली कन्नै रावता करने दे मकसद कन्नै माह्‌नू दी वाणी दी पन्छान करने ते सूचना दे निश्कर्श लेई उसी इबारत च बदलने लेई वाक् इंजन का प्रयोग कीता जाई सकदा ऐ.इबारत थमां वाणी दा प्रयोग इंटरनैट्ट परा सूचना हासल करने जनेहें अनुप्रयोगों लेई द्रिश्टीहीन व्यक्तियें गी पाठ पढ़ियै सुनाने लेई कीता जाई सकदा ऐ.
 
  भारती भाशाएं लेई इंटरनैट्ट पुज्ज साधन जियां के तपाशी, खोज इंजन ते ई-मेल.इंदे कन्नै, भारती भाशाएं च ई-मेल भेजना मुमकन होग ते खोज इंजन बाकी दूइयें भारती भाशाएं च जानकारी तुप्पने दी मदद उपलब्ध कराग ते कन्नै गै कुसै बी इक भारती भाशा च पुच्छ बी उपलब्ध कराग.
   
  भारती भाशाएं ते अंग्रेज़ी बिच्च आन-लाइन अनुवाद सेवा साधन.इस कन्नै लोकें गी अंग्रेज़ी ते कुसै बी भारती भाशा च उपलब्ध कुसै सूचना-समग्री दा अनुवाद अपनी पसंदा दी लक्ष्य भारती भाशा च करने दी सहायता हासल होग.
   
उत्पादन/सेवां टीडीआईएल डेटा केंदरें दे माध्यम कन्नै आन-लाइन हैल्प डैस्क सनें उपलब्ध करोआए जा करदे न. खल्ल लिखत दे माध्यम कन्नै अनुसंधान, उत्पादन, नियोजन ते सहायता गी प्रेरत करने दे उद्देश्श कन्नै, टीडीआईएल-डीसी (भाशा टैक्नालोजी उपयोगिता बंडांदरा चैनल) लेई सरकार दी इक मिशनबद्ध ते समें-बद्ध कार्यकलाप योजना ऐ.
   
  विकसत टैक्नालोजियें गी बजार च उपलब्ध कराना
 
  उत्पादन त्यार करने लेई टैक्नालोजियें दा दर्जा बधाना जां उंदे च सुधार करना
   
  लोड़ें पर आधारत नमीं टैक्नालोजियें दा विकास करना
   
उप्पर दित्ते दे गी हासल करने लेई, खल्ल लिखत गैं चुक्कियां जा करदियां न
 
  क. टीडीआईएल डेटा केंदरें दे माध्यम कन्नै भाशा टैक्नालोजियें/साधनें दा चरणबद्ध बंडांदरा
   
  ख. विकसत साधनें, टैक्नालोजियें, उत्पादनें ते सेवाएं गी अर्जत करना
 
  ग. भाशा टैक्नालोजी दे खेतरें च सरकार दे प्रयासें बारै जागरूकता पैदा करना ते उपलब्ध साधनें ते टैक्नालोजियें दे माध्यम कन्नै प्रचार-प्रसार
   
  घ. बरतूनियें गी साधनें, उपयोगिताएं, उत्पादनें आदि गी मुख्त डाऊनलोड करने दी सुविधा प्रदान करना
   
  ङ. भाशा टैक्नालोजी च निजी-सार्वजनक भागीदारी गी बढ़ावा देना
   
  च. खास बरतून खित्तें च मिशन शुरू करना